नकली सीबीआई अधिकारी बनकर लूटने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 3 गिरफ्तार

देहरादून। दून पुलिस ने नकली सीबीआई अधिकारी बनकर लूट करने वाले गिरोह का पर्दाफाश करते हुए तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के कब्जे से लूटी गयी नगदी 2,00,000/-रूपये नगद, 06 मंहगे मोबाइल फोन, 02 लैपटाप, एक टैब, महत्वपूर्ण रजिस्टर, घटना में प्रयुक्त कार, नकली पिस्टल, वाकी टाकी को बरामद की गयी है।

गौरतलब है कि 29 अगस्त को अमित कुमार पुत्र ईश्वर चन्द निवासी ग्राम व पो0-नागल,तह0 देवबन्द सहारनपु (उ0प्र0) हाल निवासी निकट हेरीटेज पब्लिक स्कूल सहस्त्रधारा रोड देहरादून ने थाना रायपुर में रिपोर्ट दर्ज करायी कि प्रात: 06ः15 बजे के लगभग तीन व्यक्ति उनके फ्लैट में आये । उक्त समय फ्लैट में वह खुद उनका एक कर्मचारी मुकुल त्यागी व उसकी एक महिला मित्र मौजूद थी । तीनों व्यक्तियों ने मास्क पहन रखे थे । जिनमें से 02 व्यक्तियों के पास पिस्टल व 02 वाकी टाकी थे। जिनके द्वारा पिस्टल दिखाकर झूठी वीडियो बनायी तथा कमरे में रखी नगदी, 02 लैपटाप, 06 मोबाइल फोन व अन्य सामान ले लिया । जिनके द्वारा महिला को छोड दिया तथा उन्हें व मुकुल त्यागी को वादी की ही कार XUV 300 में बैठाकर प्रूडैन्ट ट्रैडिंग एकेडमी 17 न्यू सर्वे रोड रोजगार तिराहा लेकर आये तथा एकेडमी में तलाशी लेकर वादी व मुकुल त्यागी को वादी की ही गाडी में बैठाकर देहरादून में घूमाते रहे तथा पैसे की मांग करने लगे जिस पर वादी के द्वारा अपने परिजनों से फोन से बात कर रूपये मांगे । मौका देखकर वादी मौहेब्बेवाला के पास गाडी से उतरकर भाग गया तथा तीनों व्यक्ति मुकुल त्यागी को लेकर डांट काली मन्दिर पहुंचे जहां पर मुकुल त्यागी और कार को छोडकर तीनों भाग गये ।

जांच मे जुटी टीम मे थानाध्यक्ष रायपुर कुन्दन राम के नेतृत्व में गठित टीम आरोपियों  की गिरफ्तारी व माल की बरामदगी हेतु जनपद सहारनपुर उ0प्र0, करनाल हरियाणा व विभिन्न जनपदों व राज्यों में दबिश हेतु रवाना हुई । वरि0उ0नि0 नवीन जोशी के नेतृत्व में गठित पुलिस टीम द्वारा वादी व मुकुल त्यागी के साथ-साथ उनके जानने वालों से पूछताछ कर सम्भावित संदिग्धों को चिन्हित करने की कार्यवाही की गयी । एसओजी टीम द्वारा संदिग्ध व्यक्तियों को चिन्हित कर सर्विलांस के माध्यम से उनकी जानकारी प्राप्त की गयी व एसओजी की एक टीम हरियाणा रवाना हुई । उ0नि0 राजेश असवाल चौकी प्रभारी के नेतृत्व में गठित पुलिस टीम द्वारा घटना से पूर्व व घटना के पश्चात घटनास्थल के आस-पास लगे सीसीटीवी फुटैज को चैक किया गया । पुलिस टीम द्वारा घटनास्थल के आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरों व घटनास्थल से एकेडमी तक आने जाने वाले मार्गों व वादी द्वारा बताये गये स्थानों पर लगे सीसीटीवी कैमरों का अवलोकन किया गया तो वादी के वाहन के साथ साथ एक संदिग्ध वाहन  सफेद रंग चलता दिखायी दिया । गहनता से अवलोकन पर पाया कि संदिग्ध वाहन XUV 300 UK07FK9398 का नम्बर प्रकाश में आया तथा घटना में फ्लैट में तीन व्यक्तियों के आने व जाने की फुटैज प्राप्त हुई । घटना में कुल 04 व्यक्तियों की सम्मिलित होना पाया गया । वाहन का रजिस्ट्रेशन आशीष कुमार पुत्र वेदप्रकाश निवासी ग्राम बंजारन नुकुड सहारनपुर उ0प्र0 के नाम पंजीकृत होना पाया गया । पुलिस टीम द्वारा आशीष कुमार उपरोक्त के पते पर दबिश दी गयी तो आशीष कुमार अपने घर से लगातार फरार चल रहा था व मोबाइन नम्बर लगातार स्विच आफ आ रहा था । थानाध्यक्ष कुन्दन राम, चौकी प्रभारी मयूर विहार सहित पुलिस टीम के नकुड सहारनपुर क्षेत्र में पहुंचकर आरोपियों की गिरफ्तारी हेतु विभिन्न स्थानों पर दबिश दी गयी व गिरफ्तारी व माल की बरामदगी हेतु भरसक प्रयास किये गये । पुलिस  घटना में सम्मिलित आरोपियों आशीष कुमार पुत्र वेदप्रकाश निवासी मौहल्ला बंजारन नियर एम0आर0पैलेस नकुड ब्लाक सहारनपुर उ0प्र0 उम्र 34 वर्ष, सोनू पुत्र बहादुर सिंह निवासी बुरावा शहर थाना सालावास जिला झज्जर हरियाणा उम्र 30 वर्ष, सुमित कुमार पुत्र रमेश चन्द निवासी मौहल्ला महादेव मन्दिर नकुड सहारनपुर उ0प्र0 उम्र 29 वर्ष,वांछित अभियुक्त*: अभिषेक पुत्र महेश चन्द्र निवासी: कस्बा नकुड, सहारपुर उ0प्र0 उम्र 37 वर्ष को मय घटना में प्रयुक्त वाहन XUV300 न0 UK07FK9398 के नकुड-गंगोह रोड जैनपुर को गांव से गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की  ।

पूछताछ मे तीनों आरोपियों ने अपराध को स्वीकार करते हुए बताया कि चौथा अभियुक्त अभिषेक सैनी है जो कि वादी अमित कश्यप के पास देहरादून में ट्रेडिंग का काम सीखता था । अभिषेक सैनी ने हमें बताया कि अमित कश्यप शेयर ट्रेडिंग का काम करता है । लोगों से रूपये लेकर मार्केट में निवेश करता हैं । अमित कश्यप के पास कई वॉलेट हैं जिनमें करोड़ों रुपए हो सकते है एक वॉलेट जो हमारी जानकारी में है उसमें करीब 95 लाख रूपये होने की जानकारी मिली थी । अमित कश्यप ने आशीष से 06 लाख रूपये ट्रेडिंग के लिये थे जो उसने वापस नही किये थे । माह अगस्त में अमित कश्यप ने मुजफ्फरनगर में एक सेमिनार किया था, जिसमें उसने अपने ट्रेडिंग से सम्बन्धित डायमण्ड प्लाट को प्रमोशन करने हेतु काफी खर्चा किया था । जिसमें उसने कई लोगो को कार, मो0सा0, एलईडी, मोबाइल फोन, स्मार्ट वाच गिफ्ट दिये थे । जिससे हमें विश्वास हो गया था कि अमित कश्यप के पास ठीक-ठाक पैसे है । जिस पर हम चारों ने मिलकर योजना बनायी कि हम अमित कश्यप से उसका लैपटाप मोबाइल फोन लेंगे उसके लैपटाप मोबाइल फोन में उसके वालेट से रूपयों को अपने वालेट में ट्रांसफर कर देगें । इतने रूपयों का लेखा जोखा अमित पुलिस को नही बता पायेगा । इसके लिये हमने दो लाइटर वाली नकली पिस्टल, आपस में बात करने के लिये दो वाकी टाकी मुह छुपाने के लिये मास्क और हम इनको लेकर कहाँ जा रहे यह ये देख न सके के लिये काला नकाब खरीदा । योजना के अनुसार आशीष अपने मित्र सुमित के साथ 28 अगस्त को देहरादून आया जहाँ सुमित का मित्र सोनू आईएसबीटी में मिला। इसके बाद तीनों लोग अभिषेक के साथ मोथरोवाला में मिले । हमने घटना में आशीष की कार XUV300 सफेद रंग का प्रयोग किया । सबसे पहले हम अमित की एकेडमी पहुंचे व एकडेमी के बाद उसके फ्लैट नियर हैरीटेज स्कूल पर पहुंचे फ्लैट में ताला लगा होने के कारण हम लोग वापस राजपुर रोड की तरफ चले गये । रात में 10.30 बजे हम दुबारा अमित के फ्लैट में पहुंचे तो अमित व मुकुल त्यागी के साथ एक लडकी नशे में दिखायी दी । जिस पर हमनें दूसरे दिन सुबह योजना को अन्जाम देने की प्लालिंग की । हम चारों सुबह 06.15 बजे अमित के फ्लैट के पास पहुंचे गाडी में अभिषेक बैठा रहा तथा आशीष, सोनू व सुमित मास्क लगाकर व नकली पिस्टल व एक वाकी टाकी लेकर फ्लैट में पहुंचे जहाँ दरवाजा खुलवाकर अन्दर मौजूद अमित, मुकुल व महिला को अपना परिचय सीबीआई के रूप में दिया तथा वीडियो बनाकर डराया धमकाया तथा वोलेट की जानकारी मांगी लेकिन अमित व मुकुल त्यागी ने कोई जानकारी नही दी तो उनके फ्लैट में रखे 3,25,000/-रूपये, उनके 06 मोबाइल, 02 लैपटाप, एक टैब उनके रजिस्टर, पासपोर्ट, आधार कार्ड लेकर अमित व मुकुल त्यागी को अमित की ही गाडी में बैठाकर लेकर एकेडमी आये और महिला को छोड दिया । अमित की गाडी के साथ-साथ दूसरी गाडी में अभिषेक दूसरी गाडी से साथ-साथ चल रहा था जिससे हम वाकी टाकी से बात कर रहे थे । घटना के समय हम चारों ने अपने मोबाइल फोन बन्द कर रखे थे । एकेडमी में इनके कम्प्यूटर चैक किये लेकिन कोई जानकारी नही मिली इनका डीवीआर लेकर इनसे रूपयों की मांग की अमित ने अपने घर वालों से पैसे मंगवाये तथा नागल सहारनपुर पहुंचकर 05 लाख और रूपयें देने की बात की । मौहेब्बेवाला के पास पहुंचकर अमित ने बताया कि उसका मोबाइल की बैटरी खत्म हो रही है तथा जैसे ही हमने गाडी रोककर इसके लिये डाटा केवल लेने उतरे अमित भाग गया । हमने मुकुल त्यागी को डाट काली पहुंचकर अमित गाडी सहित छोड दिया और वापस देहरादून आकर अभिषेक को मोथरोवाला चौक छोडकर हम तीनों हरिद्वार के रास्ते सामान लेकर सहारनपुर पहुंचे सहारनपुर में हमने सोनू को एक लाख 10 हजार रूपये देकर छोड दिया व हम दोनों अपने-अपने घर चले गये । अगले दिन हमें जानकारी मिली की पुलिस हमें ढूंढ रही ही, हम चारों ने अपने-2 फोन बन्द कर दिये और सिम तोड दिये तथा आशीष, सुमित गाँव में छुपे रहे व अभिषेक देहरादून से फरार हो गया । दूसरे दिन सोनू भी हमारे पास सहारनपुर आ गया और हम तीनों गांव में अलग-2 जगह छुपे रहे । पुलिस द्वारा लगातार हमारे घरवालों, दोस्तों, परिचितों व रिश्तेदारों के यहां हमें पकडने के लिये दबिश दी जी रही थी जिससे परेशान होकर हम तीनों ने सहारनपुर से बंगलौर जाने की योजना बनायी लेकिन इससे पहले पुलिस ने हमें पकड लिया । इस सारी योजना को हम चारों ने मिलकर बनायी थी ।

बरामदगी

1- नगदी दो लाख रूपये (200000/-) रूपये
2- दो अदद नकली पिस्टल (घटना में प्रयुक्त)
3- दो वॉकी टॉकी (घटना में प्रयुक्त)
4- एक काले कलर का कपड़े का नकाब (घटना में प्रयुक्त)
5- Apple I-phone-02, Reshmi mobile-01, Samsung mobile-03
6- सैमसंग आई पैड 01, एचपी लैपटाप 02
7- एक आधार कार्ड मुकुल त्यागी
8- फॉरेक्स एकेडमी के ट्रेडिंग के डायरियां, दस्तावेज आदि
9- घटना में प्रयुक्त वाहन XUV300 वाहन संख्या :- UK07FK9398 सफेद रंग (घटना में प्रयुक्त)
नोट: घटना का अनावरण करने वाली टीम को *श्रीमान पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून* *महोदय द्वारा 25000/- रू0 नगद पुरूस्कार से तथा *श्रीमान पुलिस महानिरीक्षक गढवाल परिक्षेत्र महोदय द्वारा 30,000/- रू0 नगद पुरूस्कार से पुरूस्कृत करने की घोषणा की गयी।

पुलिस टीम

टीम प्रभारी श्री कुन्दन राम थानाध्यक्ष थाना रायपुर देहरादून
1- श्री नवीन जोशी व0उ0निरी0 थाना रायपुर देहरादून
2- उ0नि0 राजेश असवाल चौकी प्रभारी मयूर विहार रायपुर देहरादून
3- हे0का0 सन्तोष कुमार, हे0का0 दीपप्रकाश, हे0का0 प्रदीप सिंह
4- का0 सौरभ वालिया, का0 प्रमोद कुमार, का0 मनोज कुमार, का0 पंकज, का0 हिमांशु
5- का0 रविन्द्र टम्टा (थाना डोईवाला), म0का0 दीपिका , म0का0 मीना
एसओजी टीम
1- एसओजी प्रभारी निरीक्षक एन0के0 भट्ट
2- उ0नि0 हर्ष अरोडा
3- हे0का0 किरन, कानि0 ललित, कानि0 नरेन्द्र, कानि0 देवेन्द्र, कानि0 विपिन, कानि0 रविन्द्र, कानि0 आशीष

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *