पुरानी संपत्तियों को बेचकर नयी खरीदी तो बुराई क्या: गामा

देहरादून। मेयर बनने के बाद कई गुना संपत्ति बढ़ने के कांग्रेस के आरोपों पर आज मेयर सुनील उनियाल गामा आज सफाई दी और कहा कि जिन संपतियों को लेकर विवाद का विषय बनाया जा रहा है वह उनकी पुरानी संपत्ति है और उन्होंने उसको बेचकर अन्य प्रोपर्टी भी खरीदी है। उन्होंने कहा कि जमीनों की वैल्यू बढ़ने का उन्हे भी लाभ हुआ और उन्होंने अन्य प्रोपर्टी मे निवेश किया तो इसमे बुराई क्या है।

पत्रकारों से वार्ता करते हुए उन्होंने कहा कि राज्य मे जमीनों की वैल्यू बढ़ने का लाभ अन्य लोगों की तरह उन्हें भी हुआ है। उन्होंने कहा कि 2012 के बाद मैंने कुछ संपत्तियाँ खरीदी मैंने 2017 में अपने चुनावी घोषणा पत्र में ढाई करोड़ तक की संपत्तियां चुनावी घोषणा पत्र में दिखाई थी। चुनाव के दौरान मैंने जो सम्पति दिखाई उसको लेकर क्यू सवाल खडे किए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि उन्होंने 18 साल की उम्र से काम शुरू किया। इस दौरान पान का खोखा चलाया, चाऊमीन बेची, वीडियो ग्राफी का काम किया वीडियो लाइब्रेरी चलाई । इसके अलावा ठेकेदारी की और 2012 तक कुछ संपत्तियां हमने ली। गामा ने कहा की मेरी ठेकेदारी अच्छी चलती थी मैं B केटेगरी का ठेकेदार था । लेकिन नगर निगम बनने के बाद मैंने निकाय में ठेकेदारी छोड़ दी और मेयर बनने के बाद मैंने अपने तमाम लाइसेंस भी निरस्त करवा दिए।

वही दरबार साहिब से जमीन लीज में लेने के मामले में भी मेयर गामा ने कहा कि मैंने 2012 में महंत जी को दुकान के लिए स्थल की मांग की और दरबार साहब से किराए पर मुझे प्लॉट दिया ऐसे में उसे मेयर बनने के बाद से क्यों जोड़ा जा रहा है । दरबार साहब का न कोई टैक्स माफ किया गया और न कोई रियायत दी गयी। श्री गुरुराम राय से जुडी सम्पत्तियों का वाद अभी भी चल रहा है और उन्हें लगातार नोटिस दिया जा रहा है। वहीं मेयर सुनील उनियाल गामा ने साफ किया कि उनका कोई पेट्रोल पंप भी नहीं है।

उनका कहना है कि मैंने सारी संपत्तियां घोषित की हुई हैं। उनके अनुसार मेरी कोई बेनामी सम्पत्ति नहीं है । मैंने अपनी सम्पत्तियों का खुलासा इनकम टैक्स में किया हुआ  है तभी तो आप लोगों तक मेरी सम्पत्ति के कागज आएं है। उनके अनुसार मैंने तो कुछ नहीं छिपाया।

उन्होंने कहा यह उनके खिलाफ़ यह षड्यंत्र है उनके खिलाफ़ भी कार्रवाई करूंगा। जो लोग खिलाफ षड्यंत्र कर रहें है उनका इतिहास भी सब लोग जानते है । वो लोग क्या करते है और उनपर क्या मामले चल रहें है। उन्होंने कहा पुरानी संपत्तियां बेचकर मैंने नई संपत्तियां खरीदी इसमें गलत क्या है।

कांग्रेस ने मेयर की संपतियों को लेकर लगाए थे आरोप

विगत दिवस कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष करन माहरा ने आरोप लगाया था कि मेयर की संपत्ति मे साढ़े 4 साल मे 10 गुना वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि इस दौरान उन्होंने जो संपत्ति अपने घोषणा पत्र मे दिखाई उससे 10 गुण अर्थात 20 करोड़ से अधिक संपत्ति हो गयी। इसके अलावा अन्य संपत्ति भी है। उन्होंने मेयर से मामले मे पक्ष रखने और सरकार से जाँच कराने की मांग की। इसके अलावा गुरु राम राय दरबार सहित अन्य संस्थाओं को विशेष छूट देने का आरोप भी लगाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *