सादगी से मनाया गया आला हजरत का उर्स ए मुबारक

देहरादून/ हल्द्वानी। जामिया सैयदा फा़तिमा ज़हरा मदरसा स्थित गौजाजाली उत्तर हल्द्वानी में आला हजरत का उर्स सादगी से मनाया गया।

इस अवसर पर मदरसे के टीचर्स स्टाफ व पढ़ने वाली बालिकाए एवं महिलाओं ने उर्स मनाने में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।
मदरसे की प्रधानाचार्य मोहतरमा उज़मा परवीन अज़हरी ने कुरान खुवानी, नातों कवद, नातिया कलाम पढ़कर आला हजरत की जिंदगी पर रोशनी डाली और उनके द्वारा लिखी गई हजारों किताबों, विश्व में उनकी प्रसिद्धि के बारे में बताया। उनके द्वारा लिखी गई किताबों पर आज विश्वव की कई विश्ववविद्यालयों में छात्रों द्वारा शोध किया जा रहा है।

इमाम आला हजरत सन 1856 में बरेली शहर में, पैदा हुए थे। उन्हें बचपन से ही इस्लामी किताबें पढ़ने वह कुरान की तिलावत करने व हदीसों को पढ़ने का शौक रहा है। उन्होंने हदीसों को पढ़कर एक किताब फतवा ए रज़विया लिखी। जिससे आज भी विश्व भर में मांगे जाने वाले फतवों पर उसी के अनुसार जवाब दिए जाते हैं।
इस अवसर पर मोहतरमा हिना परवीन,निकहत परवीन, शादमा परवीन, अंग्रेजी टीचर शबाना परवीन कंप्यूटर टीचर्स आलिया परवीन, मदरसे के प्रबंधक मुफ्ती मौ० नईम अज़हरी ने अपने समापन भाषण में आला हजरत की जिंदगी पर तफ़सील से चर्चा की ।
इस अवसर पर सैकड़ौ महिलाओं ने उर्स रज़विया में हिस्सा लिया और फातिहा ख़ुवानी के बाद मिठाई का वितरण किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *