भिक्षावृत्ति मे लगे 30 बच्चों को प्रशासन ने रेस्क्यू कर आश्रय स्थल भेजा

देहरादून। एन्टी ह्यूमन ट्रफिकिंग यूनिट ने जिला टास्क फोर्स, चाइल्ड लाइन एवं विभिन्न गैर सरकारी व सरकारी विभागों के साथ मिलकर 30 बच्चों को रेस्क्यू किया और आश्रय भेज दिया।

एन्टी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट देहरादून द्वारा नोडल अधिकारी / पुलिस उपाधीक्षक नीरज सेमवाल के निर्देशानुसार प्रभारी एन्टी ह्यूमन उ0नि0 मनमोहन सिंह नेगी के निर्देशन में विभिन्न सरकारी व गैर सरकारी विभागों / संगठनों से समन्वय स्थापित कर भिक्षावृत्ति की रोकथाम एवं ऐसे बच्चे जो भीख मांगने, कबाड़ उठाने एवं कूड़ा बीनने में मजबूर हैं और उनकी देखरेख व संरक्षण की आवश्यकता है। उनके सर्वोत्तम हितों को ध्यान में रखकर रेस्क्यू अभियान चलाया गया, जिसमें ISBT एवं शिमला बाई पास से भीख मांगने, एवं कूड़ा बीनने वाले 15 बालक, 10 बालिकाओं सहित 05 महिलाओं को रेस्क्यू किया गया जिनकी बाल कल्याण समिति के समक्ष प्रस्तुत कर काउंसलिंग करायी गयी। 05 बालिकाओं को सरफीना ट्रस्ट (खुला आश्रय गृह) 04 बालकों, 01 बालिका को शिशु निकेतन, 09 बालकों को समर्पण सोसाइटी (खुला आश्रय गृह) एवं 05 महिलाओं व उनके 06 बच्चों को वीरांगना तीलू रौतेली छात्रावास में भेजा गया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *