फर्जी कॉल सेंटर मामले मे मीडिया हाउस रडार पर,मनी लॉन्ड्रिंग का शक

देहरादून। राजधानी मे पकडे गये फर्जी कॉल सेंटर के मामले मे कई चौकाने वाले खुलासे हो रहे है। अवैध कॉल सेन्टर में प्रकाश में आये संदिग्ध खातो में 225 करोड़ की धनराशि के लेन-देन में एक मीडिया हाउस की भूमिका भी संदिग्ध मानी जा रही है। खातों और लेनदेन की जानकारी stf के द्वारा अन्य एजेंसियों के साथ साझा की जा रही है। एसटीएफ मामले को मनी लॉन्ड्रिंग की संभावना से भी जोड़कर देख रही है।

गौरतलब है कि 21 जुलाई को एसटीएफ एवं साइबर क्राईम  द्वारा एक अन्तराष्ट्रीय कॉल सेन्टर पर छापा मारा गया जिसमें 1.26 करोड़ रुपये नगद, 250 लैपटॉप व 85 कम्प्यूटर जब्त किये गये थे। प्रकरण के सम्बन्ध में साइबर थाने पर अभियोग पंजीकृत किया गया। इस अभियोग में अब तक 14 लोगो को जेल भेजा जा चुका है तथा अन्य संदिग्ध तथा फरार अभियुक्तो के विरुद्ध साक्ष्य संकलन की कार्यवाही की जा रही है।

अभियुक्तो के विरुद्ध प्रभावी कार्यवाही हेतु एसटीएफ द्वारा विभिन्न एजेन्सियों प्रवर्तन निदेशालय (ED), आसूचना ब्यूरो (IB), FBI केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI), 5- ROC (Registrar of Companies), Department of Telecommunication (DOT), CGST,SGST,राजस्व आसूचना निदेशालय (DRI) तथा  इनकम टैक्स डिपार्टमेंट
आदि से जानकारी सांझा की जा रही है।

घटना में विभिन्न बैंक खातो के विश्लेषण से अनुमानित 225 करोड़ के संदिग्ध धन के लेनदेन की जानकारी भी इन एजेन्सियों से सांझा की जा रही है । अभियोग मे Microsoft Company से भी पत्राचार किया गया है जिनसे टॉल फ्री नम्बरो के सम्बन्ध में दुनियाभर से प्राप्त हजारो शिकायतो की जानकारी मांगी गयी है, जिसकी जानकारी बहुत जल्द Microsoft Company द्वारा प्रदान की जायेगी ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *